2024 Budget नीतीश कुमार सरकार को भी पेश करना है, बिहार के मंत्री कर रहे निठल्ला चिंतन; केंद्र में निर्मला बनाएंगी रिकॉर्ड

by Republican Desk

Budget 2024 देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण गुरुवार सुबह 10 बजे कैबिनेट के सामने मंजूरी के लिए रखेंगी। फरवरी के पहले हफ्ते में ही बिहार का बजट सत्र रखा गया था। मगर, यहां तो आठ-आठ मंत्री पिछले तीन दिन से निठल्ला चिंतन कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के दाएं-बाएं दिख रहे भाजपाई मंत्रियों में से कौन बनेंगे वित्त मंत्री?
बिहार में भी बजट सत्र पांच फरवरी से था, मगर सरकार बदली तो सारी प्लानिंग बेकार गई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Sitharaman Nirmala) गुरुवार को सुबह संसद में 11 बजे से बजट (Budget 2024) का भाषण पढ़ेंगी। इससे पहले वह सुबह 10 बजे इस बजट को मंजूरी के लिए कैबिनेट में रखेंगी। अगर बिहार में सबकुछ सामान्य होता तो यहां भी नीतीश कुमार (Nitish Kumar) सरकार की राज्य बजट को लेकर तैयारी चरम पर होती, क्योंकि पांच फरवरी से बिहार विधानमंडल के बजट सत्र की घोषणा हो चुकी थी।

लेकिन, अब 2020 के जनादेश की एक बार फिर वापसी के साथ रविवार को राज्य (Bihar News) में महागठबंधन सरकार खत्म करते हुए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार बन चुकी है। रविवार शाम से सोम, मंगल और बुधवार गुजर गया। अबतक किसी मंत्री को विभाग का आवंटन नहीं हुआ है। इसलिए, वित्त मंत्री भी फाइनल नहीं। इस चक्कर में बिहार का बजट अटका है। बिहार में गुरुवार को बहुत कुछ होगा, लेकिन सबसे महवपूर्ण यह है।

बिहार में Budget 2024 असमंजस में अटका

कब बनेगा, कब विमर्श होगा और कब पेश होगा? इन सवालों का जवाब इसलिए भी मुश्किल है क्योंकि जब बजट सत्र की घोषणा की गई थी, राज्य में महागठबंधन की सरकार थी। वित्त मंत्री तब जनता दल यूनाईटेड के विजय कुमार चौधरी थे। वह सीएम नीतीश कुमार की नई राजग सरकार में भी मंत्रीपद की शपथ ले चुके हैं, लेकिन वित्त विभाग उनके पास रहेगा- इसकी गारंटी नहीं।

राजग सरकार में वित्त मंत्री भाजपा के रहते हैं
गारंटी इसलिए नहीं, क्योंकि 2022 में जब नीतीश कुमार राजग सरकार के मुखिया थे तो भारतीय जनता पार्टी कोटे के उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने बतौर वित्त मंत्री राज्य का बजट पेश किया था। उसके पहले जब राजग की सरकार थी तो यह जिम्मेदारी तत्कालीन उप मुख्यमंत्री व वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी निभाते थे। मतलब, राजग सरकार में पारंपरिक रूप से बजट भाजपा कोटे के वित्त मंत्री पेश करते हैं। रविवार को बिहार में बनी नई सरकार में यह जिम्मेदारी भाजपा के पास होगी या जदयू कोटे से महागठबंधन सरकार के वित्त मंत्री यह भूमिका निभाएंगे, अभी सामने आना बाकी है।

Bihar News
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अभी कुछ तकनीकी कारणों से अकेले सरकार चला रहे हैं। बाकी मंत्री सिर्फ नाम के।
बिहार बजट से पहले जानें देश का बजट

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना छठा बजट पेश कर रही हैं। वह पांच पूर्ण बजट पेश कर चुकी हैं। इस बार वह अंतरिम बजट पेश करेंगी। वह सुबह सवा आठ बजे बजट सत्र के लिए फोटो सेशन कराती नजर आएंगी। इसके बाद पौने नौ बजे वित्त मंत्री राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से बजट पेश करने के लिए मंजूरी लेंगी। इसके बाद वह सुबह सवा नौ बजे संसद पहुंच जाएंगी। यहां 10 बजे कैबिनेट की मंजूरी के बाद सुबहह 11 बजे 2024 का अंतरिम बजट पेश किया जाएगा। सरकार चूंकि इस साल अपना कार्यकाल पूरा कर रही है, इसलिए इसे अंतरिम बजट कहा जाएगा। यही परंपरा है।

अंतरिम बजट अमूमन चुनावी बजट होता रहा है और इसके लोक लुभावन होने की परंपरा रही है, लेकिन भाजपा सरकार ने 2019 के अंतरिम बजट को लोकलुभावन नहीं बनाकर नई रीत शुरू की थी। संभव है कि मौजूदा अंतरिम बजट भी चुनावों के हिसाब से लुभावना नहीं बल्कि देश की जरूरतों के हिसाब से सीधा और कड़ा हो। 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले अंतरिम बजट तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली को पेश करना था, लेकिन तबीयत खराब रहने के कारण उनकी जगह पियूष गोयल ने बतौर प्रभारी वित्त मंत्री वह अंतरिम बजट पेश किया था। इसके कुछ महीनों बाद 24 अगस्त 2019 को भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का निधन भी हो गया था।

निर्मला सीतारमण के नाम कई रिकॉर्ड

कांग्रेसी प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बाद बजट पेश करने वाली निर्मला सीतारमण पहली महिला हैं। वह जो बजट पेश करेंगी, इस लिंक पर बाद में आ जाएगा। नरेंद्र मोदी की भाजपा सरकार में अरुण जेटली ने पांच बजट पेश किए थे। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह पहले वित्त मंत्री हुआ करते थे। उन्होंने भी वित्त मंत्री रहते हुए पांच बजट ही पेश किए थे। कांग्रेसी वित्त मंत्री पी. चिदंबरम हों या दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के भाजपाई वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा, पांच बजट का ही रिकॉर्ड इनके पास था।

पीयूष गोयल ने तो सिर्फ एक अंतरिम बजट ही पेश किया। निर्मला सीतारमण अपना छठा बजट पेश करने जा रही हैं। इस हिसाब से यह सर्वाधिक बार बजट पेश करने वाली हो जातीं, लेकिन इनसे बड़ा रिकॉर्ड अब भी पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के नाम है। उन्होंने 10 बार बजट पेश किए थे।

चौंक जाएंगे, नीतीश कुमार की यह बातें सुनकर

You may also like

0 comment

Bihar Police कहां है? एक साथ दो युवक भीड़ के हत्थे चढ़े, लूट के प्रयास पर जनता का इंसाफ February 1, 2024 - 9:48 pm

[…] नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार बनने के बाद सामने इस तस्वीर […]

Reply

Leave a Comment

cropped-republicannews-logo.png

Editors' Picks

Latest Posts

© All Rights Reserved.

Follow us on