Bihar News : बीवी ने उतरवा दी खाकी वर्दी, अफसर पति को जेल पहुंचाया; कहानी फिल्मी, किरदार असली

रिपब्लिकन न्यूज़, गया

by Republican Desk

Bihar News में अगर आज आपने यह नहीं पढ़ा तो क्या पढ़ा! खबर POCSO कोर्ट से है, मगर कहानी घर की है। घर-घर की न हो, यही अच्छा।

Indian Girl कितना जीवट होती है, जानिए इस कहानी से

वह सरकारी क्वार्टर में रहता था। जहां रहता था, वहां का बड़ा पुलिस (Bihar Police) अफसर था। वर्दी थी। पुलिस उपाधीक्षक (Bihar Police DSP) की गर्मी भी। वर्दी और उसकी गर्मी के कारण बेखौफ था और दूसरे पर खौफ कायम रखना चाहता था। इसी गर्मी में उसने एक नाबालिग लड़की को हवस का शिकार बनाया। वह भी सरकारी क्वार्टर में। लेकिन, इसके बाद जो हुआ- उसने उसकी गर्मी उतार दी। उसे अंदाजा नहीं था कि जुल्म सहने वाली लड़की तो जीवट निकलेगी ही, खुद अपनी पत्नी इस हद तक जाएगी। पत्नी अपने पति के खिलाफ आगे आयी और उसने पहले डीएसपी की वर्दी उतरवाई। फिर फरार पति के खिलाफ कानूनी लड़ाई में बच्ची के साथ ऐसे लगी कि आज वह न केवल जेल की सलाखों के पीछे है, बल्कि पॉक्सो कानून (POCSO ACT) की विशेष अदालत में सिर झुकाए पेश भी किया गया।

Bihar Police के नाम पर 2021 में उछला यह कीचड़

बिहार पुलिस उस समय शर्मशार हो गई थी, जब गया में पदस्थापित डीएसपी कमलाकांत प्रसाद पर एक नाबालिग से दुष्कर्म का मामला सामने आया। जब उसने यह जबरदस्ती की तो वर्दी की गर्मी से उसे दबाए रखा। लेकिन, लड़की ने हिम्मत दिखाकर कमलाकांत की पत्नी को यह बात बता दी। गया में रहते हुए मामला दबा ही रहा, लेकिन जैसे ही तबादला हुआ तो लड़की भी मुखर हुई और कमलाकांत की पत्नी भी इस घिनौने आरोप से घिरे अफसर के साथ रहने को तैयार नहीं हुई। पीड़ित नाबालिग बच्ची को न्याय दिलाने के लिए कमलाकांत की पत्नी ने ही दौड़भाग शुरू कर दी। वह खुद पीड़ित बच्ची को लेकर पुलिस मुख्यालय और कमजोर वर्ग आयोग के पास पहुंच गई।

Bihar Police ने गंभीरता समझ निलंबित किया

जब पुलिस मुख्यालय और कमजोर वर्ग आयोग ने देखा कि एक पत्नी ही अपने पति को दोषी मान रही है तो उसे गंभीरता समझ में आयी। महिला थाना गया में तत्कालीन डीएसपी (मुख्यालय) कमलाकांत प्रसाद के खिलाफ प्राथमिकी (Police FIR) दर्ज किया गया। उसके बाद जांच शुरू हुई और तथ्यों के आधार पर बिहार सरकार के गृह विभाग ने कमलाकांत प्रसाद को निलंबित कर दिया। प्राथमिकी के बाद वह पुलिस से बचने के लिए फरार हो गया। पुलिस अधीक्षक हरप्रीत कौर ने पांच हजार का इनाम घोषित किया, लेकिन अबतक वह फरार रहा। पिछले महीने के अंतिम हफ्ते में उसने खुद गया कोर्ट में आत्मसमर्पण किया। गया केंद्रीय कारा में बंद कमलाकांत प्रसाद को सोमवार को पॉक्सो की विशेष अदालत में पेश किया गया।

You may also like

Leave a Comment

cropped-republicannews-logo.png

Editors' Picks

Latest Posts

© All Rights Reserved.

Follow us on