Election 2024 : हाजीपुर से चिराग, खगड़िया से राजू तिवारी, जमुई से बहनोई का नाम, अशोक चौधरी की बेटी को नहीं मिलेगा टिकट?

by Republican Desk

Election 2024 में चर्चा लोजपा रामविलास के कैंडिडेट्स की। चिराग पासवान ने हाजीपुर से लड़ने का ऐलान कर दिया है।

अशोक चौधरी की बेटी को टिकट देने से कतरा रहे चिराग

चिराग पासवान हाजीपुर से चुनाव लड़ेंगे। तमाम अटकलों के बीच चिराग पासवान ने हाजीपुर से लड़ने का ऐलान कर दिया है। हाजीपुर सीट चिराग पासवान के लिए अब प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है। इसके साथ ही खगड़िया लोकसभा से राजू तिवारी का नाम तेजी से सामने आ रहा है। राजू तिवारी लोजपा रामविलास के प्रदेश अध्यक्ष हैं। लोजपा रामविलास में टिकट बंटवारे के बीच एक अहम नाम पूर्व आईपीएस किशोर कुणाल की बहू और बिहार सरकार में मंत्री अशोक चौधरी की बेटी का भी आ रहा है। लेकिन सूत्र बता रहे हैं कि अशोक चौधरी की बेटी को टिकट मिलने के आसार बहुत कम हैं।

हाजीपुर में चाचा से लड़ने को तैयार चिराग

दिल्ली में लोजपा रामविलास की केंद्रीय संसदीय बोर्ड की मीटिंग चल रही है। चिराग पासवान ने हाजीपुर से चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है। हाजीपुर सीट के लिए चाचा पशुपति पारस और चिराग में लंबे समय से लड़ाई चल रही थी। एनडीए ने पारस को बाहर का रास्ता दिखा चिराग के साथ समझौता कर लिया है। ऐसे में हाजीपुर सीट चिराग के लिए प्रतिष्ठा का सवाल भी बन चुका है। यहां चिराग की लड़ाई चाचा पारस से ही होने की उम्मीद है।

Watch Video

जमुई से बहनोई तो खगड़िया से राजू तिवारी के लड़ने की चर्चा

चिराग पासवान 2014 और 2019 लोकसभा चुनाव में जमुई से सांसद बनकर सदन पहुंचे थे। इस बार उन्होंने अपनी सीट बदलकर हाजीपुर कर ली है। अब जमुई सीट से चिराग पासवान के बहनोई अरुण भारती के लड़ने की खबर है। वहीं खगड़िया से राजू तिवारी के नाम की काफी चर्चा है। राजू तिवारी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष हैं।

जेडीयू से रिश्ता, अशोक चौधरी की बेटी का टिकट लटका

कुछ दिन पहले ही पूर्व आईपीएस किशोर कुणाल के बेटे शायन कुणाल ने चिराग पासवान से मुलाकात की थी। खबर है कि शायन कुणाल अपनी पत्नी शांभवी चौधरी को जमुई सीट से चुनाव लड़वाना चाहते हैं। लेकिन पार्टी सूत्रों ने बताया है कि जेडीयू नेता बिहार सरकार में मंत्री अशोक चौधरी की बेटी शांभवी चौधरी को चिराग टिकट देने के मूड में नहीं हैं। इसके पीछे की वजह है शांभवी चौधरी का जेडीयू से नजदीकी होना। अशोक चौधरी सीएम नीतीश के खास माने जाते हैं। जबकि चिराग और नीतीश की लड़ाई सार्वजनिक है। यही वजह है कि चिराग शांभवी चौधरी को टिकट देने के मूड में नहीं हैं।

You may also like

Leave a Comment

cropped-republicannews-logo.png

Editors' Picks

Latest Posts

© All Rights Reserved.

Follow us on