Bihar Police सिपाही भर्ती परीक्षा की तिथि कब घोषित होगी, क्यों अटका है मामला…जानें जवाब

by Republican Desk

Bihar Police New Exam Date 2023 को सर्च करते हुए अभ्यर्थी परेशान हो रहे हैं। सिपाही भर्ती परीक्षा को लेकर मन में ढेर सारे सवाल हैं, जवाब यहां दिया जा रहा है।

बिहार पुलिस महानिदेशक आर एस भट्‌टी निरीक्षण करते हुए (फाइल फोटो)।

बिहार में लंबे इंतजार के बाद सिपाही (Police Constable) भर्ती की परीक्षा शुरू हुई। केंद्रीय (सिपाही) चयन पर्षद (CSBC Bihar Police) ने दो पालियों में परीक्षा ली भी। इसी दौरान परीक्षा भवनों में उत्तर के साथ परीक्षार्थियों के होने की सूचना मिली तो जांच के बाद हो चुकी और होने वाली पालियों की परीक्षाएं रद्द कर दी गईं। बिहार पुलिस (Bihar Police) की परीक्षा रद्द होने के सदमे में पूर्णिया के एक युवक ने जहर खा लिया। अब अभ्यर्थी जानना चाह रहे कि इस परीक्षा की नई तारीख (Bihar Police New Exam Date 2023) क्या है? Bihar News पढ़ने वाले लोग सर्च कर रहे कि bihar police exam date क्या है? तो, जान लीजिए कि अभी कुछ पेच फंसा हुआ है। जिस तरह शिक्षक भर्ती परीक्षा का रिजल्ट जारी हुए बगैर पोस्टिंग का लेटर वायरल हो रहा है, वैसा कुछ हो तो फेर में मत फंसिएगा। पुलिस की वर्दी हासिल करनी है तो फर्जीवाड़ा करना अपराध है और इसमें फंसना भी गलत है। इसलिए, पूरी खबर से समझिए कि आगे क्या होगा और कब?

फर्जी डेट वायरल हो चुका, फिर हो सकता है
सिपाही के 21391 पदों के लिए अक्टूबर की पहली तारीख को परीक्षा के दौरान एग्जाम हॉल में उत्तर के साथ पहुंचे कई अभ्यर्थी फटाफट नकल कर रहे थे। राज्य के कई केंद्रों से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की बरामदगी के साथ ऐसे मुन्नाभाई पकड़े गए। इसके बाद भी 2 अक्टूबर तक सिपाही चयन पर्षद के अध्यक्ष और राज्य के पूर्व पुलिस महानिदेशक संजीव कुमार सिंघल यह स्वीकार नहीं कर रहे थे। तीन अक्टूबर को नोटिफिकेशन आया कि रविवार 1 अक्टूबर 2023 को हुई दोनों पालियों की लिखित परीक्षा रद्द की जा रही है। साथ ही शनिवार 7 दिसंबर 2023 को होने वाली तीसरी-चौथी और 15 अक्टूबर 2023 को प्रस्तावित पांचवीं-छठी पालियों की परीक्षाओं को भी अगले आदेश तक स्थगित करने का फैसला लिया है। अगला आदेश कब? यही लोग अब जानना चाह रहे हैं। यह चाहत इतनी तेज है कि जिस दिन परीक्षा रद्द करने का फैसला हुआ, उसके अगले दिन परीक्षा की नई तारीखों का विज्ञापन भी वायरल हो गया। यह पूरी तरह फर्जी था। और, आगे भी तत्काल यह परीक्षा होगी- संदेह है।

समय लगने की वजह है फर्जीवाड़े का नेटवर्क
सिपाही बहाली परीक्षा में फर्जीवाड़े का नेटवर्क इतना जबरदस्त है कि एक राज खुल रहा है और पुलिस उसतक पहुंच रही है तो दूसरा राज सामने आ जा रहा है। सिपाही भर्ती पेपर लीक मामले में एक दर्जन जिलों में प्राथमिकी दर्ज की गई है। इन सभी केस के पुलिस अनुसंधान पदाधिकारी को तीन महीने के लिए आर्थिक अपराध शाखा (EOU) से अटैच कर दिया गया है। जनवरी के पहले हफ्ते तक जांच पूरी करने का दावा ईओयू के एडीजी नैय्यर हसनैन खान ने किया है। पेपर लीक कर आंसर परीक्षा केंद्रों तक पहुंचाने का नेटवर्क इस तरह का है, इसलिए ईओयू ने यह समय लिया है। जांच टीम अबतक फिजिकल ट्रेनर, रेल कर्मचारी, पुलिसकर्मी, छात्र और सेटर ही पकड़ रही है। उसे अबतक वह शख्स नहीं मिला है, जिसके पास पहली बार प्रश्नपत्र आया और जिसने प्रश्नों के उत्तर तैयार कराए। इस केस में नालंदा पुलिस का जवाबन गिरफ्तार हो चुका है। परिवहन शाखा के जवान को जांच टीम उठा चुकी है। एसएसबी का जवान भी गिरफ्त में है। पटना, गया और नालंदा के कई पुलिसकर्मियों की जांच चल रही है। मतलब, अभी तारीख में समय लगेगा। शायद यह साल निकल जाए।

You may also like

Leave a Comment

cropped-republicannews-logo.png

Editors' Picks

Latest Posts

© All Rights Reserved.

Follow us on